Ek Bharat Vijayi Bharat

View Recent EBVB Activities

Vivekananda Shilasmarak – Ek Bharat Vijayi Bharat

Vivekananda Rock Memorial has entered in the 50th year of it’s completion on 2nd September 2019. This grand memorial is a symbol of unity of Bharat. All State governments, Central Government, many organisations and more than 35 lakh Bhratiya civilians have donated for this grand memorial located at the southernmost tip of Bharat. Here is the inspiring tale of Vivekananda Rock Memorial in short….

  1. Swami Vivekananda on the last bit of Indian Rock

    “Sitting on the last bit of Indian rock—I hit upon a plan: Suppose some disinterested sannyasins, bent on doing good to others, go from village to village, disseminating education and seeking in various ways to better the condition of all, down to the last person—can’t that bring forth good in time?” “We, as a nation, have lost our individuality, and that is the cause of all mischief in India. We have to give back to the nation its lost individuality and raise the masses.”

    Swami Vivekananda, December, 1892

    Swami Vivekananda’s mission for rejuvenation of Bharat began with the plan he had hit upon when he sat on “the last bit of Indian rock”.

  2. Swami Vivekananda discovered the mission of his life on the Rock at Kanyakumari

    Know More

    After his sojourn as a wondering monk in India, Swami Vivekananda reached Kanyakumari in 1992. Seeing in his long travel across his sacred land of Bharat how its children had degenerated into utter poverty, ignorance and loss of self- confidence, he had had great pain in his heart.The question tormented Swamiji’s mind as to what he should do for regeneration of his motherland, for which instilling the confidence in the millions of his sinking brethren is condition precedent.

    He jumped into the sea and swam to the Rock. He immersed into meditation on the rock for three days and three nights on 25th, 26th, and 27th of December 1892. What a meditation it was! Not for his own salvation but for recovering his own nation and people from their distress. While meditating on this Rock Swami Vivekananda realized that the downfall of India was not because of her Dharma but precisely because of the ignorance of it. The Vedantic Truths of Oneness, respect to the diversity, protection of environment, potential divinity of man and the host of associated spiritual messages had to be reached to the masses in the remote. This urge later clinched his decision to go to the World Parliament of Religions and present Hindu Dharma to the world at large.

  3. Bid to obliterate Vivekananda’s name from the Rock on which he meditated

    Know More

    In the year 1963, the Birth Centenary of Swami Vivekananda was being celebrated all over the country. The people of Kanyakumari wanted to build a memorial for Swami Vivekananda on that very Historic Rock where the unknown monk was transformed into a nation builder and a Jagadguru.

  4. Obstacles at three levels

    Know More

    Vivekananda Rock Memorial Committee nominated Sri Eknathji as its Organizing Secretary. He found difficulties at three levels – A section of local Christian community was opposing a memorial for Swami Vivekananda on the Rock. Chief Minister had taken the stand that he would not allow the memorial to be built on the Rock. Sri Humayun Kabir, Union Minister of Scientific Research and Cultural Affairs while referring to the controversy had said that the memorial on the rock would spoil the natural beauty. The subject of Rock Memorial had all the potential to be a communal flash point.

  5. Obstacles turned into opportunities

    Know More

    Eknathji contacted the journalists of Calcutta and then a Press Conference was held. The very next day the news papers in Calcutta were full of – Sri Humayun Kabir, whom the people of Calcutta had elected was opposing the Memorial for Swami Vivekananda, the revered son of Calcutta. Immediately Sri Humayun Kabir called Eknathji for a meeting. He made it very clear, “I am not against the Memorial of Swami Vivekananda.” With this candid reply from Sri Humayun Kabir the first hurdle was over.

    As the Centenary year was coming to close Eknathji went to Sri Lal Bahadur Shastri who told him to get within three days some signatures of Members of the Parliament appealing for the Memorial. After three days Eknathji went to Shastriji with the signatures of 323 MPs – practically all MPs present in Delhi at that time. Shastriji was stunned. Cutting across the political, regional and creedal lines all the MPs had signed! Eknathji’s appeal was simple. ‘In the interest of our nation, to pay our respects to Swami Vivekananda, can we not rise above our political, regional and religious colours?’ All responded positively. With a bigger line drawn, the opposition of few persons in Kanyakumari melted. Responding to this development Bhaktavatsalam said, ‘The statue of Swami Vivekananda can be erected on the Rock but it should be encased in 15 feet by 15 feet shrine’.

  6. ‘Purity, Patience and Perseverance is the Key to Success’

    Know More

    Considering that the Memorial should be matching the aspirations of the nation, Eknathji said, ‘I would take the opinion of President Dr S. Radhakrishnan; Prime Minister, Pandit Jawaharlal Nehru; Home Minister, Sri Lal Bahadur Shastri; Sri M. C. Chagla, very respected Retired Chief Justice of India later he became Cabinet Minister for Education; the President of the Ramakrishna Mission and the Paramacharya of Kanchi Kamakoti Peetham on few designs and then report to you. Whatever you will decide, we shall do it.’

    Paramacharya took great interest in making the design for the Memorial along with the traditional architect Sthapati Sri S. K. Achari. With that and few more other designs Eknathji met Bhaktavatsalam. He enthusiastically went through the design prepared by Paramacharya and told Eknathji to go ahead according to that. Eknathji told, ‘But the dimensions are bigger.’ Bhaktavatsalam said, ‘No Problem. Go ahead’. Bigger means the Sabha Mandapam alone was 130’x 56’. Gradually, over the period of four years the permission for Sripada Mandapam, Dhyana Mandapam, Administrative quarters, helipad, rain water reservoirs etc. was secured.

  7. Fund collection Campaign

    Know More

    A steady flow of money was required. VRMC printed one-rupee folders with the picture of proposed Memorial, Swami Vivekananda and his inspiring quotation. The public committees were formed in each state with persons from various walks of life cutting across political, regional, sectarian lines. A Total Rs 85 lakhs was collected by contribution of one rupee, two rupees donations from the people. Almost all the state governments, in spite of whatever party was in power, donated Rs one lakh for the Memorial. The Central Government donated Rs 15 lakhs. The first donation of Rs 10,000/- to VRMC was given by Swami Chinmayananda of Chinmaya Mission.

  8. Vivekananda Kendra: The Second phase of the Memorial

    Know More

    Eknathji did not want to limit the Memorial of Swami Vivekananda to a granite memorial. The real living memorial for Swami Vivekananda should be in the lives of men and women who would give primary importance to the nation and serve the needy and suffering people. Thus, on 7th January 1972, Vivekananda Kendra a spiritually oriented service mission was started. The young men and women who would like to dedicate their life for serving the society were trained and sent to different parts of country.

    These Jeevanvrati Karyakartas with the help of Sthanik Karyakartas take up various service activities in the field of education in tribal and rural areas, Rural development, Natural resource development, cultural research, publications, youth motivation, samskara varga for children and Yoga Vargas, etc. Today Vivekananda Kendra works in over 1005 places in the country in cities as well as in interior parts like Assam, Arunachal Pradesh, Nagaland, Andaman, etc.

  9. Vivekananda Shila Smarak: EK Bharat Vijayi Bharat

    Know More

    Thus, Vivekananda Rock Memorial perhaps became the only such example in the world that the Memorial in granite gave birth to a living Memorial, to a mighty service organization.

    Vivekananda Rock Memorial which is celebrating its 50th year is in true sense a national memorial – A memorial for which all MPs irrespective of their colours, religions, regions or creeds appealed for; a memorial for which people donated throughout the country with one rupee or two-rupee donation; the only memorial for which almost all state governments irrespective of whichever party was in power donated minimum one lakh rupees each; the memorial which has the harmonious blending of different styles of traditional architectures in our country.



    Vivekananda Kendra has taken up massive SamparkaKarya in hand upto completion of 50th year i.e. September 2021, to take this story to maximum people of Bharat who have directly or indirectly contributed for this national monument of a great patriotic saint.



Recent EBVB




Ajmer

:

ध्यान, समर्पण और परिश्रम से ही चैतन्य की प्राप्ति संभव - उमेश चौरसिया

18-Feb-2020

Read More

जीवन में ध्यान, समर्पण एवं परिश्रम से ही चैतन्य अवस्था प्राप्त की जा सकती है जो व्यक्ति को इतना सक्षम बना देती है कि वह स्वयं ईश्वर बन सकता है। कलकत्ता में जब रामकृष्ण परमहंस अपने भयकंर गले के कैन्सर की अवस्था इलाज करा रहे थे। रामकृष्ण बोलने व चलने में बिलकुल असमर्थ हो गये थे और शिष्य विवेकान्नद, सारदानंद, अदभुतानंद और गृहस्थ भक्त उनकी सेवा में रात दिन लगे हुए थे। अचानक एक जनवरी 1886 के दिन ठाकुर (रामकृष्ण परमहंस) बिस्तर से उठकर इसी भवन के बगीचे में भक्तों विशेषकर गृहस्थों के बीच आ कर पूछने लगे तुमने मुझमें क्या देखा व समझा। जब भक्तों ने कहा कि आपका बखान बेद ब्यास व बाल्मीकि नही कर सके तो हम क्या हैं। ये सुनकर ठाकुर मुग्ध हो गये और वहाँ पर स्थित 30 भक्तो के प्रति प्रेम व करुणा ने उन्हें भाविष्ट कर दिया और इसी अवस्था में वह सबको स्पर्श करने लगे। इस दिन रामकृष्ण ‘कल्पतरू’ बन गये थे। ठाकुर ने अपने प्रिय शिष्य विवेकानंद द्वारा संघ का गठन करवाकर संसार को सनातन धर्म, राम, व कृष्ण, के अवतार का प्रत्यक्ष प्रमाण दिया। उक्त विचार हिन्दी प्रकाशन विभाग समिति के सदस्य उमेश कुमार चौरसिया ने विवेकानन्द केन्द्र की अजमेर शाखा द्वारा रामकृष्ण सर्किल पर आयोजित कल्पतरु दिवस महोत्सव के अवसर पर संबोधित करते हुए व्यक्त किए। नगर प्रमुख अखिल शर्मा ने बताया कि इस दौरान देश भक्ति गीतों, भजनों का गायन हुआ तथा भारत माता के चित्र पर आमजन द्वारा 101 दीप प्रज्वलित कर दीप दान किया गया। कार्यक्रम में संपर्क प्रमुख रविंद्र जैन सहनगर प्रमुख बीना रानी, युवा प्रमुख अंकुर प्रजापति, व्यवस्था प्रमुख नितिन गोयल, सह विभाग संचालक कुसुम गौतम तथा पंकज पूनिया का सहयोग रहा।

ध्यान,  

Ajmer

:

उत्तर पश्चिम रेलवे: योग एवं तनाव प्रबंधन विषय पर संवाद

26-Nov-2019 | 72 Present

Read More

उत्तर पश्चिम रेलवे के सुपरवाइज़र ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, अजमेर में विभिन्न तकनीकी अधिकारियों के साथ योग एवं तनाव प्रबंधन विषय पर चर्चा का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सेण्टर के डायरेक्टर नरेन्द्र सिंह पटियाल भी उपस्थित थे। इस चर्चा के सूत्रधार श्री महेश शर्मा - विभाग व्यवस्था प्रमुख रहे।

उत्तर  उत्तर

Ajmer

:

राष्ट्र निर्माता होता है शिक्षक - शिक्षक संवाद

26-Nov-2019 | 102 Present

Read More

शिक्षक मात्र राज्य कर्मचारी नहीं होता बल्कि वह राष्ट्र का निर्माता होता है। उसके चिंतन का क्षेत्र भले ही विश्व हो किंतु उसका प्रभाव क्षेत्र उसकी कक्षा के विद्यार्थी होते हैं जिनको मूल्याधारित शिक्षा एवं संस्कारों को सिंचन करते हुए वह राष्ट्र का निर्माण कर सकता है। शिक्षक कभी असहाय भी नहीं होता तथा समाज में शिक्षकों के योगदान को भी कभी कम नहीं आंका जा सकता। शिक्षा विभाग द्वारा शिक्षकों के प्रशिक्षण कार्यक्रम में निष्ठा में प्रथम दिन का उद्बोधन करते हुए उक्त विचार विवेकानन्द केन्द्र के जीवनव्रती कार्यकर्ता दीपक खैरे ने व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि विवेकानन्द केन्द्र समर्थ शिक्षक समर्थ भारत विषयक योग प्रतिमान पर कार्य करता है जिसके द्वारा शिक्षक अपनी छिपी हुई शक्ति का जागरण करते हैं एवं अपना प्रभावी योगदान अपने विद्यालय, समाज एवं देश के लिए दे सकते हैं। इस अवसर पर राजकीय मोईनिया इस्लामिया विद्यालय के प्राचार्य डाॅ. शाहिद उल हक चिश्ती ने कहा कि भारत में अध्यात्म का विशेष महत्व हो चाहे उसका मार्ग हिन्दू अथवा इस्लाम संस्कृति हो। विवेकानन्द केन्द्र अध्यात्म प्रेरित सेवा संगठन जिस शिद्दत से समाज में सेवा कार्य कर रहा है यह प्रेरणादायक है। शिक्षा विभाग के एडीईओ अरूण शर्मा ने इस अवसर पर प्रशिक्षणार्थियों से राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम में पूर्ण मनोयोग से भाग लेने को कहा ताकि नवीनतम अपडेट के साथ शिक्षक अपने विद्यालयों में पहुंचे एवं इस प्रशिक्षण का लाभ विद्यार्थियों को भी प्राप्त हो सके। युवा प्रमुख अंकुर प्रजापति ने विवेकानन्द शिला स्मारक के चित्र सभी प्रतिभागियों को भेंट किए तथा एक भारत विजयी भारत की संकल्पना पुस्तिका भी सभी को दी गई। इस अवसर पर विवेकानन्द केन्द्र की विभाग सह संचालक कुसुम गौतम, युवा प्रमुख अंकुर प्रजापति कार्यालय प्रमुख कुलदीप कुमावत उपस्थित थे।

राष्ट्र  राष्ट्र

Ajmer

:

रिटायर्ड हैं लेकिन टायर्ड नहीं - वरिष्ठ नागरिक सम्मेलन

25-Nov-2019 | 74 Present

Read More

वरिष्ठ नागरिक भले ही रिटायर हों लेकिन उसे टायर्ड अर्थात थका हुआ नहीं होना चाहिए। जब जीवन के सामने एक लक्ष्य एवं ध्येय होता है तब वह लक्ष्य ही हमें सदैव जवान बनाए रखता है। विवेकानंद केंद्र के संस्थापक एकनाथजी रानाडे के जीवन का उदाहरण देते हुए विवेकानंद केंद्र के जीवनव्रती कार्यकर्ता दीपक खैरे ने कहा कि एकनाथजी ने अपने एक जीवन एक ध्येय की संकल्पना को साकार किया। जब लोग जीवन के उत्तरार्द्ध में विश्राम करने का विचार लाते हैं उस उम्र में एकनाथ जी ने समुंद्र लांघने का काम किया और स्वामी विवेकानन्द का एक विशाल राष्ट्रीय स्मारक राष्ट्र को समर्पित कर दिया। इस निर्माण के दौरान आने वाले राजनीतिक, आर्थिक एवं तकनीकी कठिनाइयों को भी उन्होंने अपने कर्मयोग प्रवृत्ति से आसानी से दूर कर लिया। प्रत्येक कठिनाई का समाधान निकल सकता है किंतु दृष्टिकोण की स्पष्टता आवश्यक है। विवेकानंद केंद्र से जुड़े हुए वरिष्ठ नागरिक सत्यदेव शर्मा, कुसुम गौतम, रविंद्र जैन तथा बीना रानी ने अपने जीवन से जुड़े हुए अनुभवों को साझा करते हुए बताया कि जबसे विवेकानन्द केन्द्र के राष्ट्र कार्य से जुड़े हैं तब उम्र का एहसास समाप्त हो गया है एवं सदैव युवा बने रहते हुए पूरी ऊर्जा से केन्द्र का कार्य कर रहे हैं। कार्यक्रम का संयोजन करते हुए वरिष्ठ नागरिक संस्थान के के के गौड़ ने किया। विवेकानंद केंद्र के नगर प्रमुख अखिल शर्मा ने वरिष्ठ नागरिकों का केंद्र से जुड़ने का आह्वान किया और विवेकानंद शिला स्मारक का चित्र एवं एक भारत विजयी भारत की संकल्पना पुस्तिका भेंट की।

रिटायर्ड  रिटायर्ड

Ajmer

:

महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय में योग द्वारा पर्यावरण प्रबंधन पर संवाद

25-Nov-2019 | 84 Present

Read More

महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय स्थित दयानन्द शोध पीठ एवं विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी के संयुक्त तत्वावधान में योग द्वारा पर्यावरण प्रबंधन विषय पर विद्यार्थियों के साथ संवाद का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर श्री दीपक जी ने पंचमहायज्ञों की संकल्पना तथा पर्यावरण चेतना के जागरण में विवेकानन्द केन्द्र द्वारा किए जा रहे कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर विभाग के अध्यक्ष एवं शोध पीठ निदेशक डाॅ प्रवीण माथुर सहित अनेक शिक्षक एवं विद्यार्थी उपस्थित थे।

महर्षि  महर्षि

Ajmer

:

एक संवाद : अजमेर के जनप्रतिनिधियों के साथ

24-Nov-2019 | 105 Present

Read More

स्वामी विवेकानंद ने पश्चिम बंगाल राज्य के बाद भारत के राजस्थान राज्य में सर्वाधिक समय बिताया और अजमेर भी स्वामी विवेकानन्द की कर्मस्थली रहा है। स्वामी विवेकानंद ने युवा शक्ति जागरण के लिए विभिन्न स्थानों पर प्रशिक्षण केंद्र खोलने का स्वप्न देखा था और उसी स्वप्न को साकार करते हुए एकनाथजी ने राजस्थान का सबसे पहला केंद्र अजमेर में सन 1972 में खोला। आज समय की आवश्यकता है कि अजमेर में एक बृहद प्रशिक्षण केंद्र खोला जाए जिससे बालक, युवा, प्रौढ़, वरिष्ठ नागरिकों सहित समाज का प्रत्येक वर्ग योग, स्वाध्याय, संस्कार, सेवा, एवं नैतिक मूल्यों की स्थापना का स्वामी विवेकानन्द का स्वप्न साकार हो सके। विवेकानन्द केन्द्र के दक्षिण में कन्याकुमारी, उत्तर में काश्मीर तथा पूर्व में गुवाहाटी में प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित हो चुके हैं जिनके द्वारा सांस्कृतिक विरासत एवं योग के प्रशिक्षण का बड़ा कार्य किया जा रहा है। भारत के हृदयस्थल दिल्ली में भी विवेकानन्द इण्टरनेशनल फाउण्डेशन द्वारा विभिन्न देशों की सांस्कृतिक विरासत के सूत्रों को जोड़ने का कार्य भी विवेकानन्द केन्द्र कर रहा है। एकनाथ जी का स्वप्न पश्चिम भारत के अजमेर शहर में प्रशिक्षण केन्द्र खोलकर पूरा किया जाना आज समय की आवश्यकता है। उक्त बात विवेकानंद केंद्र के जीवनव्रती कार्यकर्ता दीपक खैरे ने विभिन्न जनप्रतिनिधियों से राजनीतिक शुचिता एवं योग द्वारा चेतना विषय पर आयोजित संवाद कार्यक्रम में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है की अजमेर में विवेकानंद स्मृति वन जो वर्षों से लंबित है उस पर गंभीरता से कार्य अभी तक नहीं किया गया है। उन्होंने राजस्थान के राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री को इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए अविलंब इस विषय में कार्यवाही करने की अपेक्षा की। इस अवसर पर नगर प्रमुख अखिल शर्मा ने बताया कार्यक्रम की मुख्य अतिथि अनिता भदेल ने विवेकानन्द केन्द्र द्वारा योग से जनचेतना के अभियान की सराहना की तथा इसके लिए कार्यकर्ताओं को बड़े पैमाने पर प्रशिक्षित किए जाने की आवश्यकता पर बल दिया।

एक  एक

Ajmer

:

एचएमटी में जीवन कार्य संतुलन पर व्याख्यान का आयोजन

20-Nov-2019 | 69 Present

Read More

जीवन में सफलता अर्जित करने के लिए प्रत्येक पल महत्वपूर्ण है। समय के पूर्ण नियोजन से ही सबकुछ प्राप्त हो सकता है। विवेकानन्द केन्द्र के संस्थापक एकनाथ रानडे के जीवन को देखते हुए जब हम नियोजन की बात करते हैं तो यह नियोजन इस रूप में हो कि जैसे हम कभी मरने वाले ही नहीं है किंतु जब इस पर क्रियान्वयन की बात आए तब ऐसा भाव हो कि हमारे पास केवल एक ही दिन है और वह है आज। प्रत्येक घंटे के अंतराल पर नियोजन का पुनरावलोकन भी बहुत आवश्यक है। स्वामी विवेकानन्द कहते हैं कि प्रत्येक व्यक्ति की क्षमता असीमित होती है लेकिन उसे पहचानना कठिन होता है। अपनी क्षमताओं की तुलना जब दूसरों होने लगती है तब हम कमजोर हो जाते हैं जबकि यह बात वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुकी है कि कठिनतम परिस्थितियों में भी व्यक्ति अपनी विलक्षण क्षमताओं का परिचय देता है किंतु यदि हम मुसीबत से घबरा जाते हैं तब वह क्षमता भी विलुप्त हो जाती है। जीवन की श्रेष्ठता के लिए कुछ बातों को अपनाना अत्यंत महत्वपूर्ण है जिन में सर्वप्रथम प्रातःकाल उठकर योग प्राणायाम इत्यादि करना तथा उसके बाद अपने स्वयं को अपडेट करना। जीवन में निरंतर संवाद चलता रहना चाहिए जिससे हम अपने व्यक्तित्व के विभिन्न आयामों का प्रगटन कर सकें। उक्त विचार विवेकानंद केंद्र के जीवनव्रती कार्यकर्ता दीपक खैरे ने हिंदुस्तान मशीन टूल्स के प्रशिक्षण कार्यक्रम में जीवन कार्य संतुलन विषय पर प्रकट किए। वे विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी के शिला स्मारक के 50 वर्ष के अवसर केन्द्र की अजमेर शाखा द्वारा आयोजित संपर्क कार्यक्रम के तहत अपना संबोधन दे रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता एचएमटी के जनरल मैनेजर श्री नवीन जी गोखरू ने की। उन्होंने विवेकानंद केंद्र द्वारा किए जा रहे कार्य की आवश्यकता तथा स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं के समाज में प्रचार और उनसे युवाओं को प्राप्त प्रेरणा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने हेतु इंगित किया। नगर प्रमुख अखिल शर्मा ने विवेकानंद केंद्र द्वारा किए जा रहे कार्यों की संक्षिप्त प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। इस अवसर पर विभाग संपर्क प्रमुख रविंद्र कुमार जैन, युवा प्रमुख अंकुर प्रजापति तथा कार्यालय प्रमुख कुलदीप कुमावत भी उपस्थित थे।

एचएमटी  एचएमटी

Ajmer

:

एकल संपर्क - मयूर स्कूल के प्राचार्य श्री अधिराज सिंह से संपर्क

18-Nov-2019

Read More

विवेकानंद शिला स्मारक संपर्क अभियान कार्यक्रम के तहत आज अजमेर के प्रतिष्ठित मयूर स्कूल के प्राचार्य श्रीमान अधिराज सिंह जी के साथ संपर्क किया गया| विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा अजमेर के नगर प्रमुख अखिल शर्मा एवं कार्यकर्ता श्रीमती रजनी जी यादव इस अवसर पर उपस्थित थे

एकल  

Ajmer

:

एकल संपर्क - श्री भगीरथ चौधरी - माननीय सांसद अजमेर

09-Nov-2019

Read More

विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा अजमेर के कार्यकर्ताओं ने अजमेर के सांसद श्री भगीरथ चौधरी जी से संपर्क किया इस अवसर पर नगर प्रमुख अखिल शर्मा, विवेकानंद हिंदी प्रकाशन विभाग समिति के श्री उमेश कुमार चौरसिया, विभाग संपर्क प्रमुख श्री रविंद्र जैन, श्री लव तामरा, भारत भार्गव एवं अन्य उपस्थित थे

एकल  

Ajmer

:

एकल संपर्क - डॉ. श्रीगोपाल बाहेती - पूर्व यूआईटी चैयरमेन

08-Nov-2019

Read More

"स्वामी विवेकानंद ने पूरे विश्व को एकता के सूत्र में बांधने का संदेश दिया और विवेकानंद शिला स्मारक उसकी एक जीती जागती मिसाल है। देश के अनेक महापुरुषों जिनमें महात्मा गांधी, स्वामी दयानंद, गुरु नानक देव तथा महावीर स्वामी ने भी यही कार्य अपने जीवन में किया है। भारत के इन महापुरुषों के योगदान को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता किंतु आज देश को अखंड बनाने वाली ताकतों की आवश्यकता है जिसे विवेकानंद केंद्र भली प्रकार से कर रहा है। उक्त विचार पूर्व विधायक डॉ श्रीगोपाल बाहेती ने विवेकानंद केंद्र के संपर्क अभियान के दौरान व्यक्त किए। इस अवसर पर विवेकानंद केंद्र के नगर संचालक डॉ श्याम भूतड़ा, विस्तार संचालक दिनेश नवाल, विभाग संपर्क प्रमुख रविंद्र जैन, उमेश चौरसिया सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।"

एकल  

Ajmer

:

एकल संपर्क - श्री हनुमान सिंह राठौड़ - क्षेत्र कार्यवाह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

07-Nov-2019

Read More

भारतीय सनातन विचार को देश काल परिस्थिति के अनुसार परिभाषित करके उसे नर सेवा नारायण सेवा के रूप में प्रतिस्थापित करने वाले स्वामी विवेकानंद का शिला स्मारक आज करोड़ों भारतीयों का प्रेरणा स्त्रोत है| व्यक्ति के चरित्र का निर्माण करते हुए उसे उत्कृष्ट विचारों के अनुरूप ऊपर उठाना ही स्वामी विवेकानंद का ध्येय था | उन्होंने देश के हजारों युवक-युवतियों का आह्वान किया और भारत के उत्थान के लिए संपूर्ण भारत में जगह-जगह संस्कार केंद्रों की स्थापना करने का लक्ष्य रखा| स्वामी विवेकानंद के इसी विचार को दृश्य रूप में लाने हेतु जिस प्रकल्प को एकनाथ जी ने खड़ा किया उसे आज विवेकानंद शिला स्मारक के रूप में जाना जाता है | विवेकानंद शिला स्मारक इस मायने में महत्वपूर्ण है कि जब श्रीपाद शिला स्वामी विवेकानंद को राष्ट्रभाव जागरण में सहायक हो सकती है उसी प्रकार यह प्रत्येक भारतवासी को भी अपने देश के प्रति समर्पण हेतु प्रेरणा का स्त्रोत बन सकती है | इसी उद्देश्य को पूर्ण करने हेतु इस स्मारक का निर्माण किया गया है| शिला स्मारक वह तपोभूमि है कि यदि वहां पर बैठकर देश के उत्थान का विचार मन में लाया जाता है तो वह सार्थक रूप में फलीभूत होना निश्चित है | यही कारण है कि देश भर के अनेक युवक-युवती उस तपोभूमि की ओर आकर्षित हुए जिन्होंने अपना पूरा जीवन देते हुए जीवनव्रती और समर्पित कार्यकर्ताओं के रूप में काम करते हुए इस राष्ट्र जागरण के जिस कार्य को आगे बढ़ाया उसमे न केवल योग, स्वाध्याय और संस्कार अपितु चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यावरण संरक्षण, ग्राम विकास एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भौगोलिक एवं सांस्कृतिक संबंधों की जड़ों को खोजने का कार्य कर रहा है| यदि भारत के वास्तविक स्वरूप का दर्शन भारत माता के चरणों में बैठकर करना हो तो प्रत्येक भारतीय को विवेकानंद शिला स्मारक अपने जीवन में अवश्य जाना चाहिए | उक्त विचार प्रसिद्ध चिंतक एवं शिक्षाविद हनुमान सिंह राठौड़ ने विवेकानंद शिला स्मारक संपर्क कार्यक्रम के दौरान व्यक्त किए| इस अवसर पर विवेकानंद केंद्र हिंदी प्रकाशन समिति सदस्य साहित्यकार उमेश कुमार चौरसिया, विवेकानंद केंद्र के प्रांत प्रशिक्षण प्रमुख डॉ स्वतंत्र शर्मा, विभाग संपर्क प्रमुख रविंद्र कुमार जैन, नगर प्रमुख अखिल शर्मा उपस्थित थे|

एकल  

Ajmer

:

महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय अजमेर में संपर्क

06-Nov-2019

Read More

विवेकानंद शिला स्मारक देशवासियों को अपने राष्ट्र के प्रति प्रेमभाव जागृत करने के साथ ही साथ स्वच्छता का संदेश भी देता है। शिला स्मारक का रखरखाव विवेकानंद केंद्र के कार्यकर्ता इतनी कुशलता एवं तत्परता से करते हैं जोकि अपने आप में एक गौरवपूर्ण मिसाल है। संपूर्ण विश्व के मानव समुदाय को वेदांत के व्यावहारिक स्वरूप का परिचय कराने वाले स्वामी विवेकानंद का संदेश विवेकानंद शिला स्मारक विगत 50 वर्षों से दे रहा है। उक्त विचार महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय अजमेर के कुलपति डॉ आर पी सिंह ने विवेकानंद शिला स्मारक संपर्क कार्यक्रम के तहत व्यक्त किए। उन्होंने अपने महाविद्यालय काल के अनुभवों को साझा करते हुए बताया कि जब वे विद्यार्थियों को लेकर कन्याकुमारी गए थे तब विवेकानंदपुरम में निवास करने का विचार आया एवं वहां पर निवास के दौरान शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के प्रति किया गया आत्मीय व्यवहार एवं सुंदर आध्यात्मिक वातावरण आज तक स्मरण में आता है। डॉ आर पी सिंह ने विवेकानंद केंद्र द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की तथा विवेकानंद केंद्र कार्यालय के दर्शन की भी इच्छा प्रकट की। संपर्क कार्यक्रम के दौरान आज विश्वविद्यालय में पर्यावरण विभाग के विभागाध्यक्ष एवं दयानंद शोध पीठ के निदेशक प्रो प्रवीण माथुर तथा प्राणी विज्ञान के विभागाध्यक्ष डॉ सुभाष चंद्र से भी संपर्क किया गया। नगर प्रमुख अखिल शर्मा ने बताया कि संपर्क कार्यक्रम में विवेकानंद हिंदी प्रकाशन समिति सदस्य एवं पूर्व राजस्थान साहित्य अकादमी सदस्य उमेश कुमार चौरसिया, प्रांत प्रशिक्षण प्रमुख डॉ स्वतंत्र शर्मा, विभाग संपर्क प्रमुख रविंद्र कुमार जैन तथा योग शिक्षक डॉ रेनू शर्मा भी उपस्थित रहीं।

महर्षि  महर्षि

Beawar

:

एक भारत विजयी भारत

05-Nov-2019

Read More

5 नवम्बर 2019 को सनातन धर्म राजकीय महाविद्यालय के संगीत विभाग में छात्र छात्राओं , संगीत विभागाध्यक्ष श्री दुष्यंत जी त्रिपाठी और संस्कृत के व्याख्याता श्री शास्त्री जी के समक्ष EBVB सम्पर्क के अंर्तगत *एकनाथ जी एवँ शिला स्मारक* निर्माण पर बनी डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म का प्रदर्शन प्रोजेक्टर के माध्यम से किया गया, एवँ कैलाश नाथ जी शर्मा ने शिला स्मारक निर्माण की महत्वता को समझाया। कुल उपस्तिथि 21 रही।

एक  एक

Ajmer

:

एकल संपर्क - प्रो- वासुदेव देवनानी

03-Nov-2019

Read More

वर्ष 1970 में माननीय एकनाथजी रानडे द्वारा संपूर्ण भारत को स्वामी विवेकानंद के नूतन विचारों के प्रेरणा स्रोत के रूप में सुदूर दक्षिण छोर पर स्थित श्रीपाद शिला पर निर्मित विवेकानंद शिला स्मारक आज संपूर्ण विश्व में नूतन भारत के ओजस्वी विचारों का संप्रेषण कर रहा है । यह एक शाश्वत सत्य है कि जब जब भारत एक हुआ है तब तब वह विजयी भी हुआ है। अतः हम सब का कर्तव्य भारत को एक करना होना चाहिए जिसमें विवेकानंद केंद्र अपनी विशिष्ट कार्य पद्धति के साथ अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान कर रहा है। उक्त विचार अजमेर उत्तर के विधायक वासुदेव देवनानी ने विवेकानंद शिला स्मारक के 50 में वर्ष के तहत  चलाए जा रहे संपर्क अभियान के अंतर्गत व्यक्त किए। इस अवसर पर देवनानी ने माननीय एकनाथ जी के साथ बिताए अपने महत्वपूर्ण क्षणों को भी याद किया उन्होंने कहा कि संपूर्ण विश्व को शिकागो से अपना संदेश देने वाले स्वामी विवेकानंद का यह शिला स्मारक प्रत्येक भारतवासी के एक और दो रुपयों के सहयोग से निर्मित हुआ है जिसमें तत्कालीन सारे भारत की राज्य सरकारों ने अपने राजनीतिक स्वार्थों से ऊपर उठकर आर्थिक सहयोग प्रदान किया था जिसके कारण सच्चे अर्थों में यह एक राष्ट्रीय स्मारक है और हमें इस राष्ट्रीय स्मारक की विजय गाथा का अध्ययन करना चाहिए और राष्ट्रहित में अधिक से अधिक इसका प्रचार करना चाहिए। इस अवसर पर विवेकानंद हिंदी प्रकाशन विभाग की प्रकाशन समिति के अध्यक्ष डॉ अशोक माथुर, सीमा माथुर, प्रकाशन समिति के सदस्य उमेश कुमार चौरसिया, विवेकानंद केंद्र के प्रांत प्रशिक्षण प्रमुख डॉ स्वतंत्र शर्मा, युवा प्रमुख अंकुर प्रजापति, सह नगर प्रमुख बीना रानी, प्रचार प्रमुख भारत भार्गव तथा केंद्र कार्यकर्ता मनीषा दीदी भी उपस्थित थी

एकल  

Ajmer

:

सामूहिक संपर्क - वरिष्ठ नागरिक

19-Oct-2019

Read More

स्वामी विवेकानंद के जन्मशती वर्ष 1963 चीन के हाथों हार हो जाने पर जब पूरे देश में एक अवसाद का वातावरण था उससे उबरने के लिए स्वामी विवेकानंद के विचारों को लेकर एक आध्यात्मिक जागरण और भारत के गौरव को बढ़ाने के लिए जिस सकारात्मक ऊर्जा की आवश्यकता होती है उसका प्रसारण समाज और राष्ट्र में विवेकानंद शिला स्मारक के द्वारा हुआ स्मारक के संस्थापक एकनाथजी रानडे का जीवन हमें इस बात के लिए प्रेरित करता है कि जीवन में कठिनाइयों के सामने कभी झुकना नहीं है और एक से एक जुड़ते हुए संगठन बनाते हुए आगे बढ़ते जाना है यही विचार आज पूरे देश में विवेकानंद केंद्र शिला स्मारक के 50 में वर्ष में प्रवेश करने के अवसर पर प्रचारित प्रसारित कर रहा है उक्त विचार विवेकानंद केंद्र के प्रकाशन समिति के सदस्य तथा राजस्थान साहित्य अकादमी के सदस्य श्री उमेश कुमार चौरसिया ने शिला स्मारक के संपर्क अभियान के अवसर पर सीनियर सिटीजन ग्रुप 3 की बैठक में व्यक्त किए संपर्क अभियान के दौरान ही श्री मदनलाल शर्मा तथा सुभाष चांदना ने विवेकानंद शिला स्मारक पर अपने बिताए हुए क्षणों को याद किया और विभिन्न संस्करणों को लोगों से साझा किया संपर्क अभियान हेतु आयोजित इस बैठक का संचालन विभाग संपर्क प्रमुख रविंद्र जैन ने किया सदस्यता अभियान के बारे में जानकारी विभाग संचालक सत्यदेव शर्मा ने दी कार्यक्रम में विभाग सह संचालक कुसुम गौतम नगर सह प्रमुख बीना रानी तथा नगर व्यवस्था सह प्रमुख लव तामरा का भी सहयोग प्राप्त हुआ

सामूहिक  

Ajmer

:

एकल संपर्क - महापौर अजमेर से संपर्क

11-Sep-2019

Read More

विवेकानंद केंद्र के अखिल भारतीय संपर्क अभियान के अंतर्गत अजमेर नगर निगम के महापौर श्री धर्मेंद्र गहलोत से संपर्क किया गया उन्होंने विवेकानंद केंद्र द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की

एकल  

Rajasthan-Prant

:

Sampark Abhiyan - First Sampark

08-Sep-2019

Read More

"ब्रह्मा मंदिर पुष्कर से शुरू हुआ विवेकानंद शिला स्मारक संपर्क अभियान -*एक भारत विजयी भारत* *विवेकानंद शिला स्मारक अपने 50 वर्ष का उत्सव मना रहा है। कन्याकुमारी स्थित विवेकानंद शिला स्मारक के 50 वर्ष के अवसर पर विवेकानंद की शिक्षाओं को आम लोगों तक पहुंचाने के लिए एक राष्ट्रव्यापी महा संपर्क अभियान 2 सितंबर को महामहिम राष्ट्रपति महोदय से संपर्क कर शुरू किया गया इस अभियान के तहत देशभर के लगभग 3 लाख लोगों से संपर्क किया जाएगा यह बात विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी राजस्थान प्रांत संगठन जीवन वृति कार्यकर्ता सुश्री प्रांजलि येरिकर ने रविवार को राजस्थान में महा संपर्क अभियान की शुरुआत करते हुए पुष्कर स्थित ब्रह्मा मंदिर के पुजारी रामनिवास जी वशिष्ठ से संपर्क के दौरान कही । पंडित राम निवास वशिष्ठ ने कार्यकर्ताओं को इस अभियान के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि जिस तरह स्वामी विवेकानंद जी ने 25 ,26 एवं 27 सितंबर 1892 मैं देश की अंतिम शीला पर बैठकर ध्यान किया और अपने जीवन के लक्ष्य को प्राप्त किया उनसे प्रेरणा लेकर युवाओं को आज राष्ट्र निर्माण हेतु अपनी सक्रिय भागीदारी निभानी होगी। संपर्क अभियान के तहत दूसरा संपर्क अजमेर दरगाह शरीफ के दीवान जैनुल आबेदीन से किया गया उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी ने ही विश्व बंधुत्व का नारा दिया था और जब जब भारत एक हुआ है वह विजय हुआ है महा संपर्क के इस क्रम में तीसरा संपर्क श्री निंबार्काचार्य पीठ, सलेमाबाद के श्रीजी महाराज से किया गया हिंदी साहित्य प्रकाशन विभाग के सदस्य उमेश चौरसिया ने बताया कि 1963 में स्वामी विवेकानंद की जन्म शताब्दी मनाने के दौरान उनकी याद में स्मारक बनाने का फैसला हुआ स्मारक निर्माण हेतु एकनाथजी रानाडे के प्रयासों से 323 सांसदों ने राजनीतिक, क्षेत्रीय और धार्मिक आस्थाओं के परे जाकर अपनी सहमती हेतु हस्ताक्षर दिए ।श्रीजी महाराज ने विवेकानंद केंद्र के इस अभियान की सराहना करते हुए अभियान की सफलता के लिए अपना आशीर्वाद प्रदान किया। प्रचार प्रमुख भारत भार्गव ने बताया कि इस संपर्क अभियान पूरे वर्ष निरंतर जारी रहेगा आज अभियान के दौरान प्रांत प्रशिक्षण प्रमुख डॉ स्वतंत्र शर्मा, नगर संचालक डॉ श्याम भूतड़ा ,नगर प्रमुख अखिल शर्मा ,जीवन वृति कार्यकर्ता मनीषा दीदी, व्यवस्था प्रमुख महेश शर्मा ,कुसुम गौतम, रविंद्र जैन उपस्थित रहे।"

Sampark  Sampark

Rajasthan-Prant

:

Vivekananda Shilasmarak : Ek Bharat Vijayi Bharat

01-Apr-2019 to 31-Mar-2020

Read More

The Samparka Karya was started in Prant from Pushkar Brahma Mandir. All India Nimbark Pithdhishwar Nimbarkacharya Shri Ji Maharaj was also contacted and Shri. Jainual Abedin, Dugah Deewan, Ajmer was contacted. Prant team met Hon. Governor Rajasthan Shri. Kalaraj Mishra. Mananeeya Kalaraj Mishra shared his reminiscences when he worked in the collection drive for Rock Memorial. We Could reach 4428 persons till today.

Vivekananda